Monday, April 13, 2009

परिचय

बुजुर्ग लायें है दिलो के दरिया से मोह्हबत की कश्ती निकालकर, हम भी मल्लाह उसी सिलसिले के है

खुद को छोड़ आए कहाँ, कहाँ तलाश करते हैं,  रह रह के हम अपना ही पता याद करते हैं| खामोश सदाओं में घिरी है परछाई अपनी  भीड़ में  फैली...